‘अब तो मिलकर सोचो’का हुआ मंचन

नटरांजलि थियेटर आर्ट्स एवं श्री बांके बिहारी वेलफेयर सोसायटी के संयुक्त तत्वावधान में गाँधी आश्रम,संजय प्लेस के निकट आज पुत्री दिवस के उपलक्ष्य पर बेटियों को समर्पित बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ,जल बचाओ,ऊर्जा संरक्षण,स्वच्छ भारत निर्माण एवं यमुना बचाओ जैसी गम्भीर विषयवस्तु को एकसाथ एक माला में पिरोती हुई अभिनय, नृत्य व गीतों के माघ्यम से जागरुकता का संदेश देती एक प्रेरक पथ नाट्य-प्रस्तुति “अब तो मिलकर सोचो” का मंचन किया गया जिसमें बेटी काली,बेटी दुर्गा,बेटी गंगा बसुंधरा, जो अपमान करे बेटी का वो पापी है इंसान नहीं, ये देश धर्म की बात नहीं संसार बचेगा बेटी से बेटों से बढ़कर बेटी हैं परिवार बचेगा बेटी से इन लयबद्ध संवादों को सुनकर दर्शक भावविभोर हो गये । इस अवसर पर गणमान्य अतिथियों में कमला दुबे मैमोरियल पब्लिक स्कूल के प्रबंधक पंकज दुबे, डॉ.निशीथ स्वरूप,अरविन्द मोहन शर्मा,दीपक सरीन,धनवान गुप्ता,वरिष्ठ रंगकर्मी शिवेन्द्र जी,रितु गोयल,गौरव सिंघल,आशा अग्रवाल,अंजलि स्वरूप,मिथलेश शाक्य एवं अंजू शर्मा की उपस्थिति रही । नाटक का संयोजन बाँके बिहारी वैलफेयर सोसायटी के संस्थापक मदन मोहन शर्मा ने एवं निर्देशन अलका सिंह ने किया ।नाट्यमंचन में अभिषेक,स्नेहा,गुंजन,दीपांशी,विवेक,दिव्यम, निशिता,प्रिंस, क्रिश,तनीषा,नितेश,हर्ष शर्मा,मदन मोहन शर्मा,अलका सिंह एवं निमित तैनगुरिया ने भिन्न-भिन्न पात्रों की भूमिका निभाई । सहयोग किया रचना माहौर,सूरज शर्मा,रौबी तैनगुरिया,पावनी,अमन सारस्वत,नकुल सारस्वत आदि ने ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Accepted file types: jpg, pdf, png, mp4, Max. file size: 100 MB.