कोरोना : आगरा के पार्षदों और विधायकों को जनता जम कर सुना रही खरी खोटी

आगरा में भी कई जगह नहीं दिखाई दिए क्षेत्रीय पार्षद व विधायक

कई लोगों ने सोशल साइट्स का प्रयोग करके जनता ने दोबारा वोट माँगने के लिए कीया मना

कोरोना वायरस की महामारी से पूरा विश्व त्राहिमाम कर रहा है. भारत भी इससे अछूता नहीं है. कोरोना की वजह से भारत सरकार ने लॉकडाउन का ऐलान कर रखा है. ऐसे दौर में कमजोर वर्ग के लोगों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है. ऐसे मुश्किल हालात में जब लोग अपने जनप्रतिनिधियों को खोज रहे हैं, तो वो नदारद दिखाई दे रहे हैं. ऐसे में आम आदमी का गुस्सा बढ़ता जा रहा है. देश के सबसे बड़े प्रदेश उत्तर प्रदेश की स्थिति तो और भी भयावह दिखाई दे रही है. विधायक और पार्षद इस मुश्किल घड़ी में कहीं भी नजर आ रही है. इससे परेशान जनता आक्रोशित है और सोशल मीडिया पर अपनी भड़ास निकाल रही है.

 


काम करते नहीं दिख रहें पार्षद और विधायक

यूपी की जनता की त्रासदी यह है कि एक तो कोरोना से बचाव करना है उपर से लॉकडाउन की इस स्थिति में अपने परिवार का भरण पोषण भी करना है. कुछेक पार्षदों और विधायकों को छोड़ दें तो कोई भी अपने क्षेत्र में या जनता के बीच काम करता दिखाई नहीं दे रहा है.

 

दूसरे राज्यों से जो तस्वीर सामने आ रही है उसमें जनप्रतिनिधि लोगों की असुविधा का ध्यान रखते हुए कम से कम खाने पीने की सामग्री, राशन वगैरह का वितरण कर रहे हैं लेकिन यूपी की हालत इस मामले में दूसरे राज्यों से काफी खराब है, वैसे में जनता का गुस्सा बढ़ता जा रहा है और वो सोशल मीडिया के माध्यम से अपने पार्षदों और विधायकों को जमकर खरी खोटी सुना रहे हैं. लोग अपने गुस्से का इजहार सबसे ज्यादा फेसबुक पर कर रहे हैं तो दूसरा नंबर ट्वीटर का है. हर इलाके में चलने वाले व्हाट्स एप्प ग्रुपों में भी लोग अपने जनप्रतिनिधियों पर भड़ास निकाल रहे हैं.

अगली बार वोट मांगने मत आना

सोशल मीडिया पर कई लोग तो सभ्य तरीके से अपने गुस्से का इजहार कर रहे हैं लेकिन जो लोग सबसे ज्यादा प्रभावित हैं, वो बेहद अशोभनीय पोस्ट और कमेंट अपने विधायकों और पार्षदों के लिए कर रहे हैं.

यूपी के अधिकांश विधायक और पार्षद पर सोशल मीडिया पर ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा कोरोना वायरस से बचाव के लिए कही गई बात दुहरा कर पोस्ट और वीडियो डाल कर अपने कर्तव्यों की इतिश्री करते दिखाई दे रहे हैं. उन्हें लगता है कि लोगों से मास्क लगाने, सैनिटाइजर का प्रयोग करने और लोगों को घर से बाहर निकलने की सलाह नहीं देकर अपना सारा दायित्व निभा चुके हैं.

वहीं यूपी के आम लोग अपने जनप्रतिनिधियों की इस बेहद मुश्किल स्थिति में बेरुखी से काफी नाराज नजर आ रहे हैं. अब सामान्य लोगों में सोशल मीडिया के माध्यम से यह माहौल बनता जा रहा है कि जो भी पार्षद या विधायक इस विपत्ति की घड़ी में नदारद हैं, उन्हें कभी भी वोट नहीं दिया जाए. कई जगहों पर तो लोग यह तक कहते दिखाई दे रहे हैं कि इस समय में अगर आप हमसे दूर हैं तो आइंदा चुनावों में भी वोट मांगने हमारे दरवाजे पर मत आइएगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Accepted file types: jpg, pdf, png, mp4, Max. file size: 100 MB.