कोरोना: 15 अप्रैल से ट्रेन में सफर करने से पहले पूरी करनी होंगी कई शर्ते !

भोपाल। कोरोना वायरस से निपटने के लिए प्रधानमंत्री मोदी के द्वारा दिए गए आदेश के बाद पूरे देश में 14 अप्रैल तक पूर्ण लॉकडाउन जारी है। आने वाली 14 अप्रैल को लॉकडाउन का विस्तार होगा या नहीं, इसका फैसला तो अभी तक नहीं लिया गया है लेकिन रेलवे ने परिचालन करने की तैयारी शुरू कर दी है। 15 से 21 अप्रैल के बीच रेलवे ने 45 ट्रेनों को अलग-अलग जगह पर चलाने का निर्णय लिया है लेकिन आधिकारिक रुप से अभी कोई घोषणा नहीं की गई है।

की जा सकती है थर्मल स्क्रीनिंग

वहीं दूसरी ओर ट्रेन परिचालन की स्थिति में ट्रेन पर चढ़ने से पहले यात्रियों को कई सारे काम करने होंगे। सबसे पहले जिसे भी रेल का सफर करना है उसे स्टेशन में चार घंटे पहले आना पड़ेगा। अभी तक की जानकारी के मुताबिक, स्टेशन पर ही यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग की जाएगी। साथ ही आरोग्य सेतु मोबाइल एप का प्रयोग करने की सलाह दी जाएगी। वहीं स्टेशन पर प्रवेश केवल आरक्षित टिकट वाले ही कर सकेंगे। इस दौरान प्लेटफार्म टिकट की बिक्री नहीं होगी।

 

जानकारी के लिए बता दें कि आने वाली 30 अप्रैल तक कई सारी मेल, एक्सप्रेस और पैसेंजर ट्रेनों का परिचालन रोक दिया था, इन ट्रेनों को एक बार फिर से 15 अप्रैल, बुधवार से शुरू किया जा सकता है। रेलवे सूत्रों के मुताबिक, ट्रेनों में सिर्फ नॉन एसी (स्लीपर श्रेणी) कोच ही होगा। यात्रा से 12 घंटे पहले यात्री को अपनी सेहत की जानकारी रेलवे को हर हाल में बताना होगा। साथ ही अगर किसी भी व्यक्ति में यात्रा के दौरान लक्षण पाये जाते है तो उसे अगले स्टेशन में उतार दिया जएगा और अस्पताल भेज दिया जाएगा।

रेलवे के द्वारा सीनियर सिटीजन को सफर नहीं करने का सुझाव भी दिया जाएगा। रेलवे के अधिकारी ने बताया कि उत्तर भारत में 307 ट्रेन चलाने की योजना है। इसमें से एडवांस बुकिंग के चलते 133 ट्रेन में सीटे हाउसफुल होने के कारण लंबी वेटिंग चल रही हैं। आने वाले दिनों में वेटिंग टिकट को रद्द किया जाएगा। हालांकि एक बार फिर से आपको बता दें कि रेलवे नें अभी कोई भी आधिकारिक घोषणा नहीं की है। इसका साफ मतलब है कि आने वाले दिनों में ही पता चल पाएगा कि आखिर स्थिति क्या है।

हो सकती हैं ये चीजें….-

ट्रेन में सफर के दैरान मास्क पहनना अनिवार्य होगा।

स्टेशन पर मामूली शुल्क में मास्क व दस्ताने दिया जाएंगे।

ट्रेन में सफर के दौरान सभी चारो दरवाजे बंद रहेंगे जिससे गैर जरुरी व्यक्ति का प्रवेश नहीं हो सकेगा।

ट्रेन नॉन स्टाप (एक स्टेशन व दूसरे स्टेशन) चलेंगी।

ट्रेन की कोच की साइड बर्थ खाली रहेगी जिससे सोशल डिस्टेंसिंग पूरी तरह से हो।

इसके अलावा एक केबिन (छह बर्थ मिलाकर एक केबिन) में सिर्फ दो यात्री सफर करेंगे।

source

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Accepted file types: jpg, pdf, png, mp4, Max. file size: 100 MB.