प्रदेश में कोरोना वैक्सीन के भंडारण के लिए 35 हजार केन्द्र तैयार किये जायेंगे।

लखनऊ: आख़िरकार वह समय आ चुका है जिसे पूरी दुनिया को इंतजार था ,कोरोना वैक्सीन जल्द ही हम सब के बीच जल्द ही देखने को मिलेगा , इसलिए अब प्रदेश में कोराना वैक्सीन भंडारण के लिए 35 हजार केंद्र बनाए जाएगा, आदरणीय  मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वैक्सीन के सुरक्षित स्टोरेज तथा कोल्ड चेन की स्थापना के लिए कार्ययोजना बनाने को कहा है। उन्होंने स्वास्थ्य व गृह विभाग से यह सुनिश्चित करने को कहा है कि किसी भी हाल में वैक्सीन का दुरुपयोग न होने पाए। पूर्व में रूबेला तथा खसरे की रोकथाम के लिए चलाए गए टीकाकरण अभियानों के अनुभवों के आधार पर कोरोना वैक्सीनेशन अभियान प्रदेश में प्रभावी ढंग से लागू किया जाए।

मुख्यमंत्री ने ये निर्देश बुधवार को अपने आवास पर बैठक में दिए। उन्होंने कहा कि वैक्सीन के सुरक्षित स्टोरेज के लिए सभी आवश्यक अवस्थापना सुविधाएं 15 दिसंबर तक तैयार कर ली जाएं। उन्होंने वैक्सीन स्टोरेज सेंटर्स में सीसीटीवी लगाने के निर्देश देते हुए कहा कि वैक्सीन कैरियर वाहनों में जीपीएस लगाया जाए जिससे इसकी सुरक्षित सप्लाई सुनिश्चित की जा सके।

केंद्र सरकार की ओर से प्रदेश में टीकाकरण के लिए मास्टर ट्रेनर्स की ट्रेनिंग भी करवाई जा रही है। बैठक के दौरान मुख्यमंत्री ने इस ट्रेनिंग का वर्चुअल अवलोकन भी किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार कोविड-19 वैक्सीन की स्टोरेज के लिए पूरी गंभीरता से काम कर रही है। लोगों को कोरोना संक्रमण से बचाने के लिए राज्य सरकार संकल्पबद्ध है और इस दिशा में निरंतर जरूरी प्रयास किए जा रहे हैं।

मरीजों की भर्ती में न आए कोई समस्या : योगी

मुख्यमंत्री योगी ने कोविड-19 संक्रमण के प्रति पूरी सतर्कता बरतने के निर्देश देते हुए कहा कि मरीजों की भर्ती में किसी तरह की समस्या नहीं आनी चाहिए। कोविड अस्पतालों में दवाओं व अन्य सामग्री की कोई कमी न होने पाए। संक्रमण के बारे में लोगों को जागरूक करने के लिए लगातार प्रचार-प्रसार किया जाए।

 

प्रमुख चौराहों, बाजारों एवं अन्य महत्वपूर्ण स्थानों पर पब्लिक एड्रेस सिस्टम के द्वारा लोगों को कोविड-19 से बचाव की जानकारी दी जाए। मुख्यमंत्री बुधवार को अपने सरकारी आवास पर एक उच्चस्तरीय बैठक में अनलॉक व्यवस्था की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रत्येक जिलाधिकारी तथा मुख्य चिकित्सा अधिकारी प्रतिदिन नियमित रूप से सुबह कोविड चिकित्सालय तथा शाम को इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर में बैठक करते हुए कार्यों की समीक्षा करें और आगे की रणनीति बनाएं। उन्होंने कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग तथा सर्विलांस की व्यवस्था को सुदृढ़ बनाए रखने पर भी जोर दिया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Accepted file types: jpg, pdf, png, mp4, Max. file size: 100 MB.